Best 4 line shayari by Rahat indori

यहाँ nazm shayari आपके साथ साझा कर रहा है राहत इंदौरी साहब की 10 motivational शायरियाँ..

           *********       *************     ***********


  सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
                   चले चलो की जहाँ तक ये आसमान  रहे
         
                  ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
 मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे

Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe
Chale chalo ke jahan tak ye asman rahe

Ye kya uthaye kadam aur aa gai manzil
Maza to jab hain ke pairon may kuch thakan rahe


Nazm shayari

             **********     ***********    ***********


बुलाती है मगर जाने का नईं 
ये दुनिया है इधर जाने का नईं

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुजर जाने का नईं

Bulati hai magar jaane ka nai
Ye duniya hai idhar jaane ka nai

Mere bete kisi se ishq kar
Magar had se gujar jaane ka nai

Nazm shayri


       ➡️➡️read best ghazal by rahat-indori ⬅️⬅️

           
        ➡️➡️Book by Rahat indori - Naraaz⬅️⬅️

             **********     ***********    ***********

राह में ख़तरे भी हैं लेकिन ठहरता कौन है
मौत कल आती है आज आ जाए डरता कौन है

तेरे लश्कर के मुक़ाबिल मैं अकेला हूँ मगर
फ़ैसला मैदान में होगा कि मरता कौन है

    Raah me khatre bhi hain lekin thahrta kaun hai
      Maut kal aati hai aaj aa jaaye darta kaun hai

     Tere lashkar ke mukaabil mai akela hu magar
        Faisla maidaan me hoga ki marta kaun hai

Nazm shayari

             **********     ***********    ***********

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है
                     ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है

                     लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

Agar khilaaf hai hone do jaan thodi hai
Ye sab dhuaan hai aasman thodi hai

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad me
Yahan pe sirf humara makan thodi hai

Nazm shayari

             **********     ***********    ***********


            आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो
            जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो

            राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिले
               रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो

Aankhon mein paani rakho, hothon pe chingaari rakho
Jinda rahna hai to tarkibe bahut saari rakho

Raha ke patthar se badh ke kuch nahi hain 
manjilen
Raaste aawaz dete hain safar jaari rakho

Nazm shayari

              **********     ***********    ***********



तेरे वादे की तेरे प्यार की मोहताज नहीं
ये कहानी किसी किरदार की मोहताज नहीं

लोग होठों पे सजाये हुए फिरते हैं मुझे
मेरी शोहरत किसी अखबार की मोहताज नहीं

Tere waade tere pyar ki mohtaaj nahin
Ye kahani kisi kirdaar ki mohtaaj nahin

Log hinton pe sazaaye hue firte hai mujhe
Meri shoharat kis akhbaar ki mohtaaz nahin

Nazm shayari

             **********     ***********    ***********



सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें

शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें

Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe
jab tak tumhare haath mere haath me rahe

Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum
Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe

Nazm shayari


             ➡️➡️book by dr rahat indori - Naraz ⬅️⬅️

             **********     ***********    ***********

जा के ये कह दे कोई शोलों से चिंगारी से
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तय्यारी से

बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के न लिए
हम ने खैरात भी माँगी है तो खुद्धारी से

Jaa ke ye kah de koi sholon se chingari se
Phool is baar khile hain badi tayyari se

Baadshahon se bhi feke hue sikke na lie
Hum ne khairaat bhi maangi hai to khudhari se

Nazm shayari

             **********     ***********    ***********


कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते  हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

Kabhi mahak ki tarah hum gulon se udate hain
kabhi dhuyen ki tarah parvaton se udate hain

Ye kechiya hume udne se khaak rokengi
Ki hum paron se nahi housalon se udate hain


Nazm shayari
   
           **********     ***********    ***********

 ➡️➡️ Read Best ghazals of Tehzeeb Hafi⬅️⬅️


जितना देख आए हैं अच्छा है काफी है
अब कहाँ जाइयेगा दुनिया है यही काफी है

हमसे नाराज़ है एक सूरज कि पड़े सोते हो
जाग उठने की तमन्ना है बस यही काफी है

       Jitna dekh aaye hain achha hai kaafi hai
    Ab kahaan jaayiyega duniya hai yahi kaafi hai

        Humse naraaz hai ek suraj ki pde sote ho
    Jaag uthne ki tamanna hai bas yahi kaafi hai

Nazm shayari


Books by dr rahat indori sahab
➡️➡️ Naaraz ( नाराज़ )⬅️⬅️
➡️➡️Mere baad ( मेरे बाद )⬅️⬅️

#राहत_इंदौरी

दोस्तो उम्मीद करते है की ये post आपको अच्छी लगी होगी। ऐसी और शायरियों के लिए आप हमारी वेबसाइट nazmshayari.com को bookmark भी कर सकते है।
अगर आप किसी प्रकार की सलाह, सुजाव या किसी प्रकार का content हमे send करना चाहते है तो हमे nazmshayari@yahoo.com पर mail द्वारा contact कर सकते है। Thank you.

Post a Comment

3 Comments

  1. chhota sa shahar, chand raaste, aur vahee ginee-chunee galiyaan,
    kamabakht phir bhee tumase takaraane ka ittefaaq nahee hota.

    https://wishmessage.com/happy-wednesday-wishes/

    ReplyDelete

Search