Mirza Ghalib Sher

Mirza ghalib ke kuchh behtareen sher ..



Koi ummeed bar nhi aati
Koi surat nazar nhi aati..

कोई उम्मीद बर नहीं आती 
कोई सूरत नज़र नहीं आती 

Koi surat najar nhi aati


                 Kehte hain jeete hain ummeed pe log
                    Hum ko jeene ki bhi ummeed nhi..

                       कहते हैं जीते हैं उम्मीद पे लोग
                      हम को जीने की भी उम्मीद नहीं

Nazm shayari


Un ke dekhe ye aa jaati hai muh par raunak
Vo shamjhte hain bimaar kaa haal achha hai..

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़ 
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

Nazm shayari


Ishrat-e-katra hai duniya me fanaa ho jaana
Dard ka hadd se guzarna hai davaa ho jaana..

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना 
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

Nazm shayari



Ishaq par zoor nhi hai ye vo aatish 'ghalib'
Ki lagaaye na lge aur bujhaye na bane..

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश 'ग़ालिब' 
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Nazm shayari


Ishq ne 'ghalib' nikamma kar diya
Varna hum bhi aadmi the kaam ke

इश्क़ ने 'ग़ालिब' निकम्मा कर दिया 
वर्ना हम भी आदमी थे काम के

Nazm shayari


Aah ko chahiye ik umar asar hone tak
Kaun jeeta hai tire zulf ke sar hone tak

आह को चाहिए इक उम्र असर होने तक 
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक

Nazm shayari

Aayina kyun na dun ki tamaasha kahen jise
Aisa kahaan se laaun ki tujh sa kahen jise..

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे 
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

Nazm shayari



Aage aati thi haal-e-dil pe hansi
Ab kisi baat par nhin aati...

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी 
अब किसी बात पर नहीं आती

Nazm shayari

Iss nazaakat ka bura ho vo bhale hain to kyaa
Haath aaven to unhen haath lagaate na bane..

इस नज़ाकत का बुरा हो वो भले हैं तो क्या 
हाथ आवें तो उन्हें हाथ लगाए न बने

Nazm shayari

                Kaaba kis muh se jaaoge 'ghalib'
                 Sharm tum ko magar nhin aati


                      काबा किस मुँह से जाओगे 'ग़ालिब'
                            शर्म तुम को मगर नहीं आती

Nazm shayari


Aata hai daag-e-hasrat-e-dil ka shumaar yaad
Mujh se mire gunaah ka hisaab ae khuda na maang

आता है दाग़-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद 
मुझ से मिरे गुनह का हिसाब ऐ ख़ुदा न माँग 

Nazm shayari

Iss saadgi pe kaun na mar jaaye ae khudaa
Ladte hain aur haath me talvaar bhi nhi...

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा 
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Nazm shayari

Sima mujhe roke hai jo kheenche hai mujhe kufr
Kaaba mire peechhe hai kalisha mire aage..

                   ईमाँ मुझे रोके है जो खींचे है मुझे कुफ़्र
                   काबा मिरे पीछे है कलीसा मिरे आगे
Nazm shayari

Kab vo sunta hai kahaani meri
Aur fir vo bhi zubaani meri..

कब वो सुनता है कहानी मेरी 
और फिर वो भी ज़बानी मेरी 

Nazm shayari

Post a Comment

0 Comments

Search