Best sher by faiz ahmad faiz



******  *******  ******

और क्या देखने को बाक़ी है
आप से दिल लगा के देख लिया

Aur kya dekhne ko baaki hai
Aap se dil bhi lagaa ke dekh liyaa..

Best urdu poetry
Faiz Ahmad Faiz

****** ****** *****

       Tumhari yaad ke jab jakhm bharne lagte hain
        Kisi bahane se tumhe yaad karne lagte hain

तुम्हारी याद के जब जख़्म भरने लगते हैं
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं

Best urdu sher latest
Faiz Ahmad Faiz

********   *******  ******

Har ajnabi hume marham dikhayi deta hai
Jo ab bhi teri gali se guzarne lagte hain

हर अजनबी हमें महरम दिखाई देता है
जो अब भी तेरी गली से गुज़रने लगते हैं

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की शायरी
Faiz ahmad faiz


**** **** ****

Gulon me rung bhare baade-naubahaar chale
Chale bhi aao ki gulshan ka kaarobaar chale

गुलों में रंग भरे बादे – नौबहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी
Faiz ahmad faiz
******  *******  ******

Himmate-iltiza nahi baaki
Zabt ka hausala nahi baaki

Ek teri deed chhin gayi mujhse
Varna duniya me kya nahi baaki


हिम्मते – इल्तिजा नहीं बाक़ी
ज़ब्त का हौंसला नहीं बाक़ी

इक तेरी दीद छिन गई मुझसे
वर्ना दुनिया में क्या नहीं बाक़ी

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी
Faiz ahmad faiz
******  *******  ******

                   Meri kismat se khelne vaale 
            Mujhko kismat se bekhabar kar de

मेरी क़िस्मत से खेलने वाले
मुझको क़िस्मत से बेख़बर कर दे

फौज अहमद फ़ैज़ शायरी
Faiz ahmad faiz

******  *******  ******

Kab thehre ga dard-ae-dil, kab raat basar hogi
Sunte the vo aayenge ,sunte the sahar hogi

कब ठहरेगा दर्द ऐ दिल, कब रात बसर होगी
सुनते थे वो आयेंगे, सुनते थे सहर होगी

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी
Faiz ahmad faiz 

******  *******  ******

                     Hizr ko shab to kat hi jaayegi
                    Roze-vasl-sanam ki baat karo

हिज्र को शब तो कट ही जायेगी
रोजे-वस्ले-सनम की बात करो

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शायरी
Faiz ahmad faiz 

******  *******  ******

            Kar raha tha gume-jahaan ka hisaab
                     Aaj tum yaad be-hisaab aaye

कर रहा था गमे-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बे-हिसाब आये

Best shayari
Faiz ahmad faiz

******  *******  ******

                Ho chuka khatm ahde-hizro-visaat
    Zindagi me mazaa nahi baaki

हो चुका ख़त्म अहदे-हिज़्रों -विसात
ज़िंदगी में मज़ा नहीं बाकी

Nazm shayari
Faiz ahmad faiz

                          ******  *******  ******

Post a Comment

0 Comments

Search